How many Blinds (कितने नेत्रहीन)(Akbar Birbal Stories in Hindi)

(दोस्तों अकबर-बीरबल के किस्से सदियों से हमारे देश में सुने-सुनाये जाते हैं| ये किस्से न केवल मनोरंजक होते हैं बल्कि इनमें कुछ ने कुछ सीखने के लिए भी होता है| पेश हैं इन्हीं में से एक मशहूर किस्सा|)

एक बार अकबर ने बीरबल से पूछा कि बीरबल क्या तुम जानते हो कि हमारे राज्य में कितने नेत्रहीन व्यक्ति हैं?

बीरबल ने इस सवाल का जवाब ढूँढने के लिए अकबर से एक हफ्ते का समय माँगा|

अगले दिन लोगों ने देखा कि बीरबल बाजार में बैठकर दुसरे लोगों के जूते सिल रहे हैं| यह देखकर सभी को बड़ी हैरानी हुई कि आखिर बीरबल ऐसा क्यों कर रहे हैं|  उनमें से कुछ लोगों ने बीरबल से पूछ ही लिए कि “बीरबल! आप क्या कर रहे है?”



अब जब भी बीरबल से कोई यह सवाल पूछता तो वे कुछ लिखने लगते थे| यह सिलसिला लगभग एक हफ्ते तक चला| सातवें दिन आखिरकार राजा अकबर नें यही सवाल बीरबल से पूछ लिया|

बीरबल ने कोई जवाब नहीं दिया और वे अगले दिन अपने वादे के मुताबिक़ अपना जवाब एक कागज़ पर लिखकर महाराज अकबर के पास दरबार में पहुँच गए| अकबर नें कागज़ को ध्यान से पढ़ा और पाया कि अंधे लोगों की संख्या काफी अधिक थी| पढ़ते-पढ़ते सम्राट अकबर ने देखा कि उनका नाम भी इस list में शामिल है, आगबबूला होकर अकबर ने बीरबल से पुछा कि आखिर उनका नाम इस list में क्यों है?

 

बीरबल ने जवाब दिया “महाराज! दुसरे लोगों की तरह आपने भी मुझे जूते सिलते हुए देखा और फिर भी मुझसे पूछा कि मैं क्या कर रहा हूँ| इसलिए मुझे आपका नाम भी इस list में डालना पडा|”

अकबर बीरबल का जवाब सुनकर हंस पड़े और सभी लोगों ने बीरबल के sense of humour का आनंद लिया|
.

सीख : जैसा कि भगवान् गौतम बुद्ध ने भी कहा है कि “यह दुनिया अंधी है! बहुत ही कम लोग चीजों को उसके सही स्वरूप में देख पाते हैं| ” भविष्य या फिर गुजरे हुए कल की चिंता करने के बजाय हमारा पूरा ध्यान वर्तमान में और जो काम हमारे हाथ में है उस पर होना चाहिए| 

[यह article आपको कैसा लगा, कृपया comments के जरिए इस पर अपनी राय जाहिर करें, अगर आपके पास कोई रोचक जानकारी या सुझाव हो तो आप उसे अपने blog link/photo के साथ [email protected] पर भेज कर हमारे साथ share कर सकते हैं | अच्छे लेखों/कहानियों को हम यहाँ पर आपके नाम और blog link/photo के साथ publish करेंगे|]


नए लेख ई-मेल से प्राप्त करें :

 


Some related links (कुछ सम्बंधित लिंक)

तीन तोहफे!
माफ़ करना बेटा !
मूर्ति
आंसू और हंसी
Read More Stories in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *