मुनाफा सबसे अहम् नहीं होता

(Original Post : Never Put Profits First, December 21st, 2013, by Steve Pavlina) बिजनेस के किताबों से जो विचार मैंने सीखे, उनमें से ज्यादातर बेकार थे| बाकी तो बेहद नुकसानदेह थे| सहज-ज्ञान और प्रयोग ही सबसे बेहतर गाईड(Guide) साबित हुए | सबसे पहली बात, जिस पर बिजनेस की किताबें इतना जोर देती है वह यह है कि बिजनेस चलाने का …

Read More

चेतना के स्तर

(Original Post : Levels of Consciousness, April 7th, 2005 by Steve Pavlina) डेविड आर. हव्किंस, अपनी किताब Power vs. Force, में मानव-चेतना के विभिन्न स्तरों के एक अनुक्रम(hierarchy) के बारे में बताते हैं| यह एक बड़ी ही रोचक मिसाल है| अगर आप इस किताब को पढ़ें तो आप बड़ी ही आसानी से यह पता कर सकते हैं कि अपनी वर्तमान …

Read More

ऊपर वाला मदद करने के लिए तैयार है, ज़रा छप्पर तो बड़ा कीजिए!

(Original Post : Allowing Yourself to Receive, September 8th, 2012 by Steve Pavlina) आर्थिक सम्पन्नता की लहर(vibration) भी खुले संबंधों की लहरों की तरह होती है| यह बहाव में बहने के लिए निमंत्रण देती है, आपका स्वागत करती है और बदले में यह आपसे कुछ नहीं मांगती| हम प्यार, धन-दौलत आदि और भी बहुत सी चीजों को आकर्षित करने और …

Read More

हिम्मत एक प्रवेशद्वार है

(Original Post : Courage is the Gateway, March 30th, 2005 by Steve Pavlina) डॉ डेविड हव्किंस नें अपनी किताब “Power vs. Force : The Hidden Determinants of Human Behavior”, में एक अनुक्रम(hierarchy) के बारे में जिक्र किया है जिसमें मनुष्य की भावनात्मक अवस्थाओं के बारे में बताया गया है जहाँ पर शर्म और अपराध-बोध(guilt) सबसे निचले पायदान पर और शांति …

Read More

खुशी पहले, बाकी सब बाद में

(Original Post : Happiness First, Then Everything Else, August 12th, 2012 by Steve Pavlina) अगर आप एक नौकरी, एक सम्बंध, या फिर एक ऐसी जीवन-शैली(lifestyle) को स्वीकार करते हैं जिसे आप सहन(tolerate) तो कर सकते हैं लेकिन जिसे आप सराह(appreciate) नहीं पाते तो इसका सीधा सा अर्थ यह है कि आप, अपनी खुशी से ज्यादा किसी और चीज को अहमियत …

Read More

कठिन लोगों का सामना कैसे करें?

(Original Post : Dealing with Difficult People, November 20th, 2004 by Steve Pavlina) आप कैसे कठिन, तर्कहीन(irrational) या फिर गाली-गलौच करने वाले लोगों का सामना कर सकते हैं, खासकर कि तब जबकि वे उन पदों(positions) पर आसीन हों जहाँ से वे आपके जीवन के एक हिस्से को नियंत्रित कर सकते हों? मैं(स्टीव पव्लीना) कभी भी किसी ऐसे व्यक्ति से नहीं …

Read More

आखिर आपका मूल्य क्या है?

(Original Post : What is Your Value?, August 30th, 2005 by Steve Pavlina) पिछले गुरूवार जब मैंने(steve pavlina) “माध्यम और सन्देश”(लेख जल्द ही उपलब्द्ध होगा) का विषय उस एक 20-मिनट के व्याख्यान(speech) के दौरान उठाया, जो मैंने अपने एक ‘टोस्टमास्टर क्लब’ में दिया था, तो मैंने हरेक श्रोता को एक फर्जी(fake) बिजनेस कार्ड बनाने को कहा जिस पर उन्होंने अपना …

Read More

जिम्मेदारी और आकर्षण का नियम

(Original Post : Responsibility and the Law of Attraction, August 14th, 2006 by Steve Pavlina) अपने जीवन के प्रति हमारी जवाबदेही(जिम्मेदारी, responsibility), एक ऐसी चीज है जिसे हम थोड़ी देर के लिए भुला तो सकते हैं लेकिन उससे पीछा नहीं छुडा सकते| जैसेकि मैं (स्टीव पव्लीना) अक्सर कहता रहता हूँ कि आप कंट्रोल(/नियंत्रण) तो दूसरे को दे सकते हैं लेकिन …

Read More

२० मिनट में कैसे आप अच्छा महसूस कर सकते हैं?

(Original Post : Feeling Blessed, June 9th, 2008 by Steve Pavlina) ‘जैसा आप नहीं चाहते’ उसके बारे में लगातार सोचते रहने के चक्रव्यूह में फंसना बड़ा आसान है| और इसमें वह सभी कुछ शामिल है जोकि आपके जीवन में  इस वक्त मौजूद है लेकिन जिसे आप पसंद नहीं करते हैं| अगर आप बार-बार उन्हीं अनचाही चीजों के बारे में सोचते …

Read More

पक्का इरादा क्या होता है?

(Original Post : What is Commitment?, October 4th, 2011, by Steve Pavlina) अपना सिर पानी में डुबो दीजिए और इसे कुछ देर वहीं रखे रखिए| आपको जल्द ही पता चल जाऐगा कि साँस लेने के लिए आपका इरादा १००% पक्का है| इस पर ध्यान दीजिए कि आप साँस न लेने के लिए कोई बहाना नहीं बनाएंगे| ध्यान दीजिए कि आप …

Read More